@KurukhTimes

'बेटी को पिता की जमीन में हिस्‍सेदारी के हाईकोर्ट के फैसले से आदिवासियों की बिसु सेन्‍दरा आहत है'

5 days 2 hours ago
'बेटी को पिता की जमीन में हिस्‍सेदारी के हाईकोर्ट के फैसले से आदिवासियों की बिसु सेन्‍दरा आहत है' admin Tue, 05/24/2022 - 09:39

आदिवासियों बेटियों की पिता की जमीन में हिस्‍सेदारी के पक्ष में हाईकोर्ट के फैसले आदिवासी समाज का एक तबका खुद को आहत बता रहा है। 22 मई को भरनो थाना क्षेत्र में 22 पड़हा पारंपरिक बिसु सेन्‍दरा द्वारा आयोजित वार्षिक बैठक में यह चिंता का विषय बना रहा। संगठन द्वारा एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करके यह जानकारी दी गई है। 

admin

प्रकृति और कुंडुख भाषा विकास

1 week 1 day ago
प्रकृति और कुंडुख भाषा विकास admin Sat, 05/21/2022 - 11:05

भारतीय भूमि की यह विशिष्टता है कि यहाँ की भूमि में पानी और वाणी की विविधता है। भारतीय उपमहाद्वीप में कुड़ुख भाषी आदिवासी समूह निवास करते हैं। इस समूह की खास बात है कि यह प्रकृति द्वारा अनुशासित है। कुड़ुख भाषी जनजीवन में प्रकृति और मानव के मध्य का मधुर अंतर्सम्‍बंध स्पष्ट दिखलाई पड़ता है। कुड़ुख भाषा के शब्दकोश में चिड़ियों का स्वर शामिल है। चिड़ियों ने कुड़ुख समूह को कई शब्द दिये हैं। मनुष्य के लिए इस से सुन्दर और कोई बात नहीं हो सकती !

कुड़ुख भाषा में एक गीत है :-

admin

नयी शिक्षा नीति में भारतीय भाषाओं का स्थान

1 month 1 week ago
नयी शिक्षा नीति में भारतीय भाषाओं का स्थान admin Tue, 04/19/2022 - 09:15

सार: किसी भी भाषा के लुप्त होने या उसके संकटग्रस्त श्रेणी में आ जाने के परिणाम बहुत दूरगामी होते हैं। भाषा का एक-एक शब्द महत्त्वपूर्ण होता है। प्रत्येक शब्द अपने पीछे संस्कृति की एक लंबी परंपरा को लेकर चलता है। इसलिए भाषा लुप्त होते ही संस्कृति पर खतरा मंडराने लगता है। संस्कृति और उस भाषा के संचित ज्ञान को बचाने के लिए भाषा के संरक्षण की बहुत आवश्यकता है। भारत की नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 2020 में इस बात पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा गया है कि दुर्भाग्य से भारतीय भाषाओं को समुचित ध्यान और देखभाल नही मिल पायी है, जिसके तहत देश ने विगत 50 वर्षों में 220 भाषाओं को खो दिया है। युनेस्को ने 197 भ

admin

कुंड़ुख टाइम्‍स डॉट कॉम का 2रा प्रिंट एडिशन आ गया..

1 month 2 weeks ago
कुंड़ुख टाइम्‍स डॉट कॉम का 2रा प्रिंट एडिशन आ गया.. admin Sun, 04/10/2022 - 09:25

कुंड़ुख टाइम्‍स डॉट काम के प्रिंट एडिशन का दूसरा अंक प्रस्‍तुत है। इस अंक में हमने कई महत्‍वपूर्ण विषयों को समेटा है। कुंड़ुख भाषा की लिपि तोलोंग सिकि के आयामों पर व्‍यापक चर्चा शामिल है। तोलोंग सिकि की नींव का अपना एक इतिहास है। जी हां, आपने ठीक याद किया, झारखंड अलग राज्‍य आंदोलन। इस प्रसंग में भी हम जानेंगे कुछ अन्‍य पहलू। इसके अलावा इस अंक में चर्चा होगी , धुमकुडि़या, राष्‍ट्रीय शिक्षा नीति 2020, टीसीएस द्वारा चलाये जा रहे भाषा शिक्षण केंद्र की प्रासंगिकता, आदि। इस प्रिंट एडिशन को पीडीएफ फॉर्मेट में यहीं पढ़ा जा सकता है। आप चाहें तो इसे डाउनलोड कर के भी पढ़ सकते हैं। 

admin

राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 एवं मातृभाषा शिक्षा

1 month 2 weeks ago
राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 एवं मातृभाषा शिक्षा admin Sun, 04/10/2022 - 08:51

भारतीय संविधान के चौथे भाग उल्लिखित नीति निदेशक तत्वों में कहा गया है कि प्राथमिक स्तर पर सभी बच्चों को अनिवार्य एवं निःशुल्क शिक्षण की व्यवस्था की जाए। सामान्य परिचय :- जब देश 15 अगस्त 1947 ई० को स्वतंत्र हुआ, तभी से ही भारत में शिक्षा नीति पर जोर दिया जा रहा है। सन् 1948 ई० में विश्वणविद्यालय शिक्षा आयोग डॉ० राधाकृष्ण की अध्यक्षता में बनी, फिर 1952 में माध्यमिक शिक्षा आयोग जिसकी अध्यक्षता श्री लक्ष्मण स्वामी मुदालियर ने की, जिसे मुदालियर आयोग के नाम से भी जानते है। 1964 ई० में शिक्षा नीति श्री दौलत सिंह कोठारी की अध्यक्षता में बनी जो कि 1986 का राष्ट्रीय शिक्षा नीति को कोठारी आयोग से जानत

admin

अद्दी कुंड़ुख़ चाःला धुमकुड़िया पड़हा अखड़ा (अद्दी अखड़ा) संस्था अब नये कार्यालय में

1 month 3 weeks ago
अद्दी कुंड़ुख़ चाःला धुमकुड़िया पड़हा अखड़ा (अद्दी अखड़ा) संस्था अब नये कार्यालय में admin Thu, 04/07/2022 - 09:38

दिनांक 05.04.2022 दिन मंगलवार को अद्दी कुंड़ुख़ चाःला धुमकुड़िया पड़हा अखड़ा (अद्दी अखड़ा), झारखण्डं, संस्था का कार्यालय, नये पते पर स्थानांतरण करने की प्रक्रिया पूरी की गई। अब अद्दी अखड़ा का नया कार्यालय पता - तोलोंग मचा, बोड़ेया रोड, नगड़ा डिप्पा, चिरौन्दी, थाना : बरियातु, जिला : रांची (झारखण्ड) है। नये कार्यालय के उद्घाटन के अवसर पर अद्दी अखड़ा के अध्यमक्ष श्री जिता उरांव, संयोजक डॉ. नारायण उरांव, भारत पेट्रोलियम के पूर्व चीफ मैनेजर श्री अजीत टोप्पो, श्रीमती सीता अंजना टोप्पो, गोस्सनर कॉलेज, रांची की असिस्टेन्ट प्रोफेसर डॉ.

admin

तोलोंग सिकि सिखाने की एक कला यह भी..

1 month 3 weeks ago
तोलोंग सिकि सिखाने की एक कला यह भी..

यह विडियो ऐतिहासिक पड़हा जतरा स्थल,मुड़मा, रांची में दिनांक १२मार्च से १४ मार्च २०२२ तक आयोजित कार्यशाला में कुंड़ुख़ भाषा एवं तोलोंग सिकि पढ़ने-पढ़ाने के तरीके को कविता के माध्यम से बतलाते हुए श्रीमती गीता उरांव..

admin

कुंड़ुखटाइम्‍स.कॉम का प्रथम प्रिंट एडिशन

1 month 3 weeks ago
कुंड़ुखटाइम्‍स.कॉम का प्रथम प्रिंट एडिशन admin Sun, 04/03/2022 - 11:33

आपको तो पता है कि कुंड़ुखटाइम्‍स.कॉम लम्‍बे समय से आपको कुंड़ुख जगत की खबरें, सूचनाएं और शोध आदि संबंधित सामग्री ऑनलाइन उपलब्‍ध कराता रहा है। अब ऑनलाइन के अलावा हम इसका प्रिंट एडिशन भी प्रकाशित कर रहे हैं। आशा है आपको पसंद आयेगा। आज प्रस्‍तुत है कुंड़ुखटाइम्‍स.कॉम का प्रथम प्रिंट एडिशन। आप इसे चाहें तो ऑनलाइन पढ़ सकते हैं अथवा पूरा का पूरा अंक डाउनलोड कर सकते हैं। आपकी प्रतिक्रिया हमें प्रेरित करेगी।  

admin

राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 व मातृभाषा कुँड़ुख़तोलोंग सिकि एवं धुमकुड़िया पर कार्यशाला सम्पन्न

1 month 3 weeks ago
राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 व मातृभाषा कुँड़ुख़तोलोंग सिकि एवं धुमकुड़िया पर कार्यशाला सम्पन्न admin Sat, 04/02/2022 - 10:22

दिनांक 12 मार्च से 14 मार्च 2020 तक ऐतिहासिक पड़हा जतरा खुटा शक्तिस्थल, मुड़मा, राँची में अवस्थित सांस्कृतिक भवन में तीन दिवसीय कार्यशाला मातृभाषा शिक्षा सह कुँड़ुख़ भाषा तोलोंग सिकि तथा धुमकुड़िया विषय पर सम्पन्न हुआ। इस कार्यशाला में झारखण्ड, प.

admin

धार्मिक उपनिवेशवाद और पारम्परिक उराँव (कुँड़ुख़) समाज

1 month 4 weeks ago
धार्मिक उपनिवेशवाद और पारम्परिक उराँव (कुँड़ुख़) समाज admin Fri, 04/01/2022 - 10:50

उपनिवेशवाद का अर्थ है - किसी समृद्ध एवं शक्तिशाली राष्ट्र द्वारा अपने विभिन्न हितों को साधने के लिए किसी निर्बल किन्तु प्राकृतिक संसाधनों से परिपूर्ण राष्ट्र के विभिन्न संसाधनों का शक्ति के बल पर उपभोग करना। यहाँ धार्मिक उपनिवेशवाद का अर्थ है - कमजोर और असंगठित समाज को अपने धार्मिक संगत में मिलाकर उसके सांस्कृतिक विरासत का समूल नाश करते हुए अपने समूह में मिला लेना है। देश की स्वतंत्रता के 75 वें वर्ष पूरे होने वाले हैं पर आज भी आदिवासी समाज वैचारिक रूप से पूर्ण रूपेण आजाद नहीं हो पाया है। वर्तमान में लगभग अपने मौलिक विचार धारा के 50 लाख जनसंख्या वाले तथा कुँड़ुख़ भाषा बोलने वाले उराँव लोगों

admin

हमारी बोली हमारी पहचान : मातृभाषा दिवस पर विशेष

3 months 1 week ago
हमारी बोली हमारी पहचान : मातृभाषा दिवस पर विशेष

2010 में आई यूनेस्को की ‘इंटरेक्टिव एटलस’ की रिपोर्ट बताती है कि अपनी भाषाओं को भूलने में भारत अव्वल नंबर पर है। भाषा विशेषज्ञों का मानना है कि आदिवासी भाषाएँ ज्ञान के भण्डार को अपने में समेटे हुए हैं जिसका इतिहास करीबन चार हजार साल पुराना है। यूनेस्को की महानिदेशक इरीना वोकोवा कहती  है कि ‘‘मातृभाषाएँ जिनमें कोई भी अपना पहला शब्द बोलता है, वही उनके इतिहास एवं संस्कृति की मूल बुनियाद होती है…और यह बात सिद्ध भी हो चुकी है। स्कूल के शुरुआती दिनों में वही बच्चे बेहतर ढंग से सीख पाते हैं जिन्हें उनकी मातृभाषाओं में पढ़ाया जाता है” संयुक्त राष्ट्र संघ की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि आदिवासी भाषा

admin

परम्‍परागत धुमकुड़ि‍या प्रवेश दिवस (कोरना उल्‍ला) सम्‍पन्‍न

3 months 1 week ago
परम्‍परागत धुमकुड़ि‍या प्रवेश दिवस (कोरना उल्‍ला) सम्‍पन्‍न

दिनांक 16 फरवरी 2022 दिन बुधवार को परम्‍परगत उरा¡व समाज द्वारा पौराणिक पारम्‍परिक पाठशाला धुमकुड़ि‍या के रूप में माघ पुर्णिमा 2022 को गुमला जिला के सिसई थाना के सैन्‍दा ग्राम में रूढ़ी पम्‍परा पूजा विधि के साथ धुमकुड़ि‍या प्रवेश दिवस मनाया गया। यह दिवस पर, ग्राम सैन्‍दा के बच्‍चे एवं बुजूर्ग उपस्थित थे। ज्ञात हो कि पूर्व में उरा¡व समाज के बीच धुमकुड़ि‍या की व्‍यवस्‍था थी जो आधुनिक शिक्षा के प्रसार के बाद विलुप्‍ती के कगार पर है।

admin

कुंड़ुख भाषा तोलोंग सिकि सप्‍ताह समारोह, बिरसा नगर, जमशेदपुर में सम्‍पन्‍न

3 months 1 week ago
कुंड़ुख भाषा तोलोंग सिकि सप्‍ताह समारोह, बिरसा नगर, जमशेदपुर में सम्‍पन्‍न admin Tue, 02/15/2022 - 21:29

दिनांक 12 फरवरी से 20 फरवरी तक चलने वाला कुंड़ुख भाषा तोलोंग सिकि दिवस सप्‍ताह का दूसरा दिन दिनांक 14 फरवरी 2022 दिन सोमवार को पश्चिम सिंहभूम जिला के टाटा लौह नगरी में आदिवासी उरांव समाज समिति, बिरसा नगर, जमशेदपुर में सम्‍पन्‍न हुआ। यह भाषा दिवस, आदिवासी उरांव समाज समिति, बिरसा नगर, जोन न.

admin

कुंड़ुख भाषा तोलोंग सिकि सप्‍ताह समारोह, छारदा, सिसई (गुमला) सम्‍पन्‍न

3 months 2 weeks ago
कुंड़ुख भाषा तोलोंग सिकि सप्‍ताह समारोह, छारदा, सिसई (गुमला) सम्‍पन्‍न admin Mon, 02/14/2022 - 16:31

दिनांक 12 फरवरी से 20 फरवरी तक चलने वाला कुंड़ुख भाषा तोलोंग सिकि दिवस सप्‍ताह का पहला दिन दिनांक 12 फरवरी 2022 दिन शनिवार को गुमला जिला के सिसई थाना क्षेत्र के अन्‍तर्गत कार्तिक उरांव आदिवासी कुंडुख़ विद्यालय, छारदा में सम्‍पन्‍न हुआ। यह भाषा दिवस, कुंड़ुख़ भाषा तोलोंग सिकि दिवस सप्‍ताह आयोजन समिति, सिसई प्रखण्‍ड द्वारा आयोजित किया गया था। ज्ञात हो कि फरवरी 2016 से कुंड़ुख भाषा की तोलोंग सिकि (लिपि) से झारखण्‍ड के सभी स्‍कूलों में परीक्षा लिखने की अनुमति मिलने के पश्‍चात समाज के लोगों द्वारा कुंड़ख भाषा तोलोंग सिकि दिवस सप्‍ताह 12 फरवरी से 20 फरवरी तक मनाने का निर्णय लिया गया है।

admin

कुंड़ुख भाषा तोलोंग सिकि सप्‍ताह समारोह, सीताराम डेरा, जमशेदपुर में सम्‍पन्‍न

3 months 2 weeks ago
कुंड़ुख भाषा तोलोंग सिकि सप्‍ताह समारोह, सीताराम डेरा, जमशेदपुर में सम्‍पन्‍न admin Mon, 02/14/2022 - 16:26

दिनांक 12 फरवरी से 20 फरवरी तक चलने वाला कुंड़ुख भाषा तोलोंग सिकि दिवस सप्‍ताह का दूसरा दिन दिनांक 13 फरवरी 2022 दिन रविवार को पश्चिम सिंभूम जिला के टाटा लौह नगरी में आदिवासी उरांव समाज समिति, पुराना सीताराम डेरा में सम्‍पन्‍न हुआ। यह भाषा दिवस, आदिवासी उरांव समाज समिति, पुराना सीताराम, जमशेदपुर द्वारा आयोजित किया गया। ज्ञात हो कि 12 फरवरी 2016 से कुंड़ुख भाषा की तोलोंग सिकि (लिपि) से झारखण्‍ड के सभी स्‍कूलों में कुंड़ुख़ भाषा विषय की परीक्षा लिखने की अनुमति मिलने के पश्‍चात, समाज के लोगों द्वारा कुंड़ुख़ भाषा तोलोंग सिकि दिवस सप्‍ताह 12 फरवरी से 20 फरवरी तक मनाने का निर्णय लिया गया है।

admin
Checked
1 minute 9 seconds ago
Subscribe to @KurukhTimes feed