Latest Posts

KT MAG 06

Kurukh Times बहुभाषीय पत्रिका का छठा अंक प्रकाशित हो चुका है। अपनी खास साज-सज्‍जा और समृद्ध लेखों से परिपूर्ण यह पत्र…

Kurukh Times Magazine Vol 05

कुंड़ुख टाइम्‍स (वेब संस्‍करण) का अक्‍टूबर से दिसंबर 2022 / अंक 5 का यह संस्‍करण काफी पठनीय है। आप इसे यहां ऑनलाइन पढ…

Dhumkuria Book

धुमकुड़िया, उराँव आदिवासी समाज की एक पारम्परिक सामाजिक, व्यक्तित्व एवं कौशल विकास केन्द्र है। प्राचीन काल से ही यह, गा…

Kurukh Times print edition 04
कुंड़ुख टाइम्‍स त्रैमासिक पत्रिका का चतुर्थ (4th)अंक प्रकाशित हो गया है। यह अंक 'बिसुसेन्‍दरा विशेषांक' है। यह अंक Tata
शब्‍दावली बैठक 1

दिनांक 01 मई 2022, दिन रविवार को आदिवासी उराँव समाज समिति, बिरसा नगर, जोन न०-6, जमशेदपुर में ‘‘कुँड़ुख़ व्याकरण की पार…

KurukhTimes.com Print Edition Vol. 1

आपको तो पता है कि हमारा-आपका एक और वेबसाइट KurukhTimes.com लम्‍बे समय से आपको कुंड़ुख जगत की खबरें, सूचनाएं और शोध आद…

पहेलियां..

कुंड़ुख़ भाषा में पहेलियों का प्रयोग बखुबी होता है। बच्चों के लिए यह बौदि्धक एवं भाषा विकास का एक अनोखा तरीका है जिसे स…

कुड़ुख मुहावरे

कुंड़ुख़ भाषा में मुहावरा एवं कहावत का प्रयोग बखुबी होता है। कई असहज बातों को इससे आसानी से समझा जाता है। आइये इसे जाने…

@KurukhTimes.com

मांडर में विलेज कोर्ट खोलने की तैयारी पूरी,19 पंचायत के लोगों को न्याय के लिए शहर के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं होगी

6 days 7 hours ago
मांडर में विलेज कोर्ट खोलने की तैयारी पूरी,19 पंचायत के लोगों को न्याय के लिए शहर के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं होगी admin Sat, 07/13/2024 - 17:59

रांची : झारखण्ड में ग्रामीणों को न्याय के लिए शहर के चक्कर लगाने से राहत मिलने वाली है. इसके लिए राज्य के गांवों में अदालतों की स्थापना की जा रही है. राजधानी राँची के गांव मांड़र में विलेज कोर्ट खोलने की पूरी तैयारी हो गई है.इसका उद्घाटन झारखंड हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश करेंगे. गांव अदालत में जुडिशल मजिस्ट्रेट और वकील भी होंगे.

admin

आशा आदिवासी विद्यालय बलसोता सरना टोली में आज का क्लास

6 days 7 hours ago
आशा आदिवासी विद्यालय बलसोता सरना टोली में आज का क्लास

यह विडियो दिनांक 13.07.2024 दिन शनिवार को आशा आदिवासी विद्यालय, बलसोता, भंडरा (लोहरदगा) का है। इस विद्यालय में तीन भाषा विषय हिन्दी, अंगरेजी और कुंड़ख़ क्रमवार देवनागरी, रोमन एवं तोलोंग सिकि लिपि में पढ़ाई होती है। यह विद्यालय 8वीं कक्षा तक संचालित है तथा यह आवासीय विद्यालय है। विडियो यहां के स्कूल के कक्षा का है। कक्षा का अनुशासन और सांस्कृतिक विरासत को सम्हालकर आगे ले जाने की जिम्मेदारी का झलक है। कक्षा में बच्चों द्वारा आसारी मौसमी राग एवं गीत, मूंह खोलकर गाया जाना,, सचमुच प्रशंसनीय हैं। आइये बच्चों का आसारी गीत का आनन्द लें --

admin

जनजातीय शिक्षक पद सृजन को लेकर कुड़खर प्रतिनिधियों ने लोहरदगा सांसद और मांडर विधायक को ज्ञापन सौंपा

6 days 16 hours ago
जनजातीय शिक्षक पद सृजन को लेकर कुड़खर प्रतिनिधियों ने लोहरदगा सांसद और मांडर विधायक को ज्ञापन सौंपा admin Sat, 07/13/2024 - 08:25

दिनांक 10 जुलाई 2024 को मांडर विधायक शिल्पी नेहा तिर्की से मिलकर कुड़ख़र समाज के प्रतिनिधियों ने कुँडुख शिक्षक पद सृजन विषय को लेकर ज्ञापन सौंपा। विधायक शिल्पी नेहा तिर्की ने प्रतिनिधियों से कहा की कुँड़ुख बहुल क्षेत्र में कुँड़ुख भाषा का ही शिक्षक होना चाहिए और उन्हें पूरा विश्वास है कि उरांव समाज की संख्या अधिक है। इसके साथ ही उन्होंने सीधे मुख्यमंत्री से भेंट करने की भी सलाह दी। बातचीत के दौरान उन्होंने बताया कि मंत्रिमंडल विस्तार के दिन भी इस मुद्दे पर चर्चा की गई है। इस मौके पर मुख्य रूप से  कुँडुख उराँव भाषा संरक्षण समन्वय समिति, झारखंड प्रदेश के  अध्यक्ष अरविंद उराँव, सचिव संजीव भगत,

admin

गुमला विधायक एवं डी.सी को कुँड़ख़ भाषा का संरक्षण को लेकर कुँडुख़र प्रतिनिधियों ने ज्ञापन सौंपा

1 week 1 day ago
गुमला विधायक एवं डी.सी को कुँड़ख़ भाषा का संरक्षण को लेकर कुँडुख़र प्रतिनिधियों ने ज्ञापन सौंपा admin Thu, 07/11/2024 - 07:36

कुँडुख़ (उराँव) भाषा शिक्षक पद सृजन के स्थान पर गलत तरीके से नागपुरी शिक्षक का पद सृजित किया गया है। जिसे निरस्त कर पुन: सर्वेक्षण  कराने की  मांग को लेकर  दिनांक 09/07/2024 को  गुमला विधायक एवं डी.सी. को ज्ञापन सौंपा गया। साथ ही कक्षा प्रथम से एम.ए.

admin

दो दिवसीय कुँड़ुख़ प्रशिक्षण कार्यक्रम साल्ट लेक कोलकाता में हुआ सम्पन्न, तोलोंग सिकि लिपि बनी माध्यम

1 week 1 day ago
दो दिवसीय कुँड़ुख़ प्रशिक्षण कार्यक्रम साल्ट लेक कोलकाता में हुआ सम्पन्न, तोलोंग सिकि लिपि बनी माध्यम admin Thu, 07/11/2024 - 07:33

दिनांक- 26 से 27 जून 2024 तक दो दिवसीय कुँड़ुख़ प्रशिक्षण कार्यक्रम साल्ट लेक, कोलकाता के सिधु-कान्हु भवन में आयोजित किया गया। कार्यक्रम कल्चरल रिसर्च इंस्टीट्यूट, आदिवासी विकास विभाग, पश्चिम बंगाल सरकार के द्वारा आयोजित किया गया। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में पश्चिम बंगाल के बर्धमान, बीरभूम तथा हुगली जिले से कुल 28 उरांव प्रशिक्षणार्थियों ने भाग लिया। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में मुख्य रूप से कहानी- लेखन तथा वार्तालाप- लेखन पर जोर दिया गया था और वह भी तोलोंग सिकि के माध्यम से। कार्यक्रम का उद्घाटन मैडम लामा आइ ए एस के द्वारा किया गया और साथ में उपस्थित थे डायरेक्टर कल्चरल रिसर्च इंस्टीट्यूट तथा

admin

कुँडुख़ (उराँव) भाषा शिक्षक पद सृजन में भारी गड़बडी, सर्वे निरस्त कर पुन: सर्वे कराने की मांग

1 week 3 days ago
कुँडुख़ (उराँव) भाषा शिक्षक पद सृजन में भारी गड़बडी, सर्वे निरस्त कर पुन: सर्वे कराने की मांग admin Tue, 07/09/2024 - 11:54

झारखंड सरकार की ओर से पहली बार आदिवासी/ जनजातीय एवं क्षेत्रीय भाषा शिक्षक बहाल करने जा रही है।  सरकार चाहती है कि आदिवासी भाषाओं का विकास, संरक्षण एवं संवर्धन हो। पिछले दिन आदिवासी भाषा शिक्षक पद सृजन करने के लिए सर्वे किया गया। जिसमें सर्वे नीति सही नहीं होने के कारण प्राथमिक/ मध्य विद्यालय के प्रधानाचार्य के द्वारा गलत तरीके से विद्यालय में कुँडुख़/ उराँव बच्चों का नामांकन अधिक होने के बावजूद कुँडुख़/ उराँव बच्चों को ही नागपुरी बच्चों की संख्या दिखाकर एवं बच्चों के द्वारा व्यवहार की जाने वाली सादरी बोली को आधार बनाकर नागपुरी भाषा पद का सृजन किया गया है। +2 उच्च विद्यालय एवं कक्षाएं 9-10 म

admin

कुँडुख़ (उराँव) भाषा शिक्षक पद सृजन-सर्वे में भारी गड़बड़ी, सुधार नहीं हुआ तो कुँडुख़ समाज आंदोलन करने के लिए हो जाएगा बाध्य

1 week 6 days ago
कुँडुख़ (उराँव) भाषा शिक्षक पद सृजन-सर्वे में भारी गड़बड़ी, सुधार नहीं हुआ तो कुँडुख़ समाज आंदोलन करने के लिए हो जाएगा बाध्य admin Sat, 07/06/2024 - 20:56

आदिवासियों की विलुप्त होती कुँडुख़, मुण्डा, हो, खड़िया आदि भाषा को बचाने के लिए सरकार ने प्राथमिक/ मध्य विद्यालय स्तर पर भाषा शिक्षक बहाली कराने का निर्णय लिया है। यह निर्णय सराहनीय है। लेकिन वहीं पांचवी अनुसूचित क्षेत्र के गुमला जिला के भरनो प्रखंड को छोड़कर, गुमला जिला के शेष सभी प्रखंडो में कुँडुख़ ( उराँव ) भाषा-पद सृजन में भारी गड़बड़ी किया गया है जिसने कुँडुख़ समाज की नींद उड़ा दी है। झारखंड सरकार की उचित नीति न होने के कारण प्राथमिक/ मध्य विद्यालय के  प्रधानाचार्य के द्वारा कुँडुख़/उराँव बच्चों का नामांकित संख्या विद्यालय में अधिक होने के बावजूद कुँडुख़ के स्थान पर नागपुरी का पद सृजि

admin

विश्वविद्यालय कुँडु़ख विभाग को तोलोंग सिकि लिपि पर पठन-पाठन करने हेतु ज्ञापन सौंपा गया

2 weeks 1 day ago
विश्वविद्यालय कुँडु़ख विभाग को तोलोंग सिकि लिपि पर पठन-पाठन करने हेतु ज्ञापन सौंपा गया admin Thu, 07/04/2024 - 12:01

आज दिनांक 02/07/2024 को अद्दी कुँड़ुख चाला धुमकुड़िया पड़हा अखड़ा, रांची संस्था के द्वारा कुँड़ुख विभाग, रांची विश्वविद्यालय (जनजातीय एवं क्षेत्रीय भाषा संकाय ) के विभाग अध्यक्ष डॉ नारायण भगत महोदय को ज्ञापन सौंपा गया। जिसमें कुँड़ुख भाषा की लिपि तोलोंग सिकी में पठन-पाठन आरंभ करने तथा विषयवार परीक्षा होने की बात रखी गई। उरांव/कुँड़ुख समुदाय की अपनी विशिष्ट कुँड़ुख भाषा और विशिष्ट लिपि तोलोंग सिकि है। जिसे झारखंड सरकार ने वर्ष 2003 और पश्चिम बंगाल सरकार ने वर्ष 2018 में मान्यता प्रदान की है। 

admin